vegetarian food keeps both nature and humans healthy - Sachi Shiksha

शाकाहारी भोजन सेहतमंद जीवनशैली की कुंजी है। इन दिनों कोरोना महामारी का दौर चल रहा है, लोग शाकाहारी भोजन की ओर मुड़ रहे हैं, क्योंकि वह मानने लगे हैं ‘स्वस्थ खाओ, लंबा जियो’ और इसके साथ ही वह लगातार बढ़ रहे पर्यावरण के प्रदूषण को कम करना चाहते हैं। ज्यादा से ज्यादा लोग इस बात के लिए जागरूक हो रहे हैं कि 70 प्रतिशत बीमारियां, जिनमें एक तिहाई कैंसर भी शामिल है, वह उनके आहार से जुड़ी हुई हैं।

शाकाहारी भोजन प्राकृतिक रूप से सेहतमंद होता है और इससे पतनकारी जीवनशैली से जुड़ी हुई बीमारियां जैसे कि हृदय धमनी रोग, मोटापा, हाई ब्लड प्रेशर, मधुमेह के साथ ही प्रोस्टेट, ब्रेस्ट, पेट, फेफड़ों और भोजन नली का कैंसर होने का खतरा कम होता है। शाकाहारी भोजन में पोटाशियम, जटिल कार्बोहाईडरेट्स, पॉलीअनसेचुरेटेड फैट, फाइबर, कैल्शियम, मैगनीशियम, विटामिन सी और विटामिन ए होते हैं जो रक्तचाप को संतुलित रखने में हमारी मदद करते हैं। इसका दूसरा फायदा यह है कि इसमें कलौरीज की मात्रा कम होती है जो मोटापे को नियंत्रण में रखती है। शाकाहारी भोजन में कोलेस्टरॉल और फैट की मात्रा कम होने से हाईपरटेंशन का खतरा भी कम होता है।

शाकाहारी भोजन सेहत को इस प्रकार रखता है तंदुरुस्त

मधुमेह के खतरे को कम करना:

जॉर्ज वाशिंगटन यूनिवर्सिटी स्कूल आॅफ मेडिसिन के शोध के अनुसार, यह पुष्टि हुई है कि एक शाकाहारी आहार बहुत पौष्टिक होता है और पचने में भी आसान होता है। इसमें वसायुक्त अम्ल (फैटी एसिड) की मात्रा बहुत कम होती है जो रक्त शर्करा को नियंत्रित रखती है जिससे मधुमेह का खतरा कम हो जाता है। यह मधुमेह की बीमारी में रोकथाम के लिए महत्वपूर्ण लाभ भी प्रदान करता है और इसके बढ़ने के जोखिम को कम करता है।

उच्च फाइबर सामग्री:

भोजन के उचित पाचन के लिए फाइबर जरूरी है। फाइबर फल और सब्जियों में उच्च मात्रा में मौजूद होता है। शरीर के चयापचय में सुधार के अलावा, यह विषाक्त पदार्थों और रसायनों, जो विकास में बाधा डालते हैं, के त्वरित उन्मूलन में मदद करता है। शाकाहारी भोजन में पानी की मात्रा आमतौर पर अधिक होती है, इसलिए वे शरीर में तरल पदार्थों को बनाए रखने में भी सहायक हैं।

रक्तचाप को नियंत्रित रखने में सहायक:

शाकाहारी आहार में सोडियम और वसायुक्त अम्ल की मात्रा कम होती है। शाकाहारी भोजन कम तेल में भी पकाया जाता है जो अंतत: कम रक्तचाप को बनाए रखने में मदद करता है।

त्वचा की अरोग्यता को बढ़ाता है:

शाकाहारी भोजन, विशेष रूप से फल और सब्जियां: विटामिन, खनिज और एंटीआॅक्सीडेंट से समृद्ध होती हैं। जैसा कि शाकाहारी भोजन में पानी की मात्रा होती है, इसलिए यह शरीर से विषाक्त पदार्थों को निकाल देता है। इसके अलावा, कुछ पदार्थों को कच्चा खाया जा सकता है जो अंतत: स्वस्थ त्वचा के लिए पोषक तत्वों के सेवन में सुधार करता है।

सोरायसिस के सुधार में मदद करता है:

सोरायसिस एक त्वचा रोग है जो त्वचा पर लाली और जलन का कारण बनता है। शाकाहारी भोजन उन लोगों के लिए फायदेमंद हो सकता है जो इससे पीड़ित हैं।

शाकाहारियों में कोलेस्ट्रॉल का स्तर कम होता है:

व्यापक शोध के बाद यह पाया गया है कि शाकाहारी आहार में कोलेस्ट्रॉल का स्तर मांसाहारी आहार की तुलना में बहुत कम होता है जिसके कारण शाकाहारियों में कोलेस्ट्रॉल का स्तर अपेक्षाकृत कम पाया जाता है।

हृदय रोगों के खतरे को कम करता है:

मांसाहारी भोजन संतृप्त वसायुक्त अम्ल (फैटी एसिड) का स्रोत होता है जो अक्सर धमनियों में अवरोध पैदा करता है। दूसरी तरफ, शाकाहारी भोजन जो फाइबर में उच्च होता है और इसमें अस्वास्थ्यकर वसा की बहुत कम मात्रा होती है जो अंतत: हृदय सम्बन्धी बीमारियों के जोखिम को कम करने में सहायक हैं।

सेहत और पोषण के प्रति सचेत होने के कारण लोगों के खाने-पीने की आदतों में बदलाव आ रहा है। वे अब सोचने लगे हैं कि वायरस से मुकाबला करने के लिए किस तरह अपनी इम्यूनिटी को बढ़ाएं, इसलिए ऐसे तत्वों को आहार में शामिल कर रहे हैं जिनमें हर प्रकार के पोषक तत्व हों और उनसे मोटापा भी न बढ़े।

Dr-Sandhya-Pandeyकोरोना का खौफ लोगों में इस कदर समाया हुआ है कि लोग अब मांसाहार छोड़कर शाकाहार अपना रहे हैं। हालात यह है कि जो लोग सप्ताह के सात दिन नॉनवेज खाते थे अब उन्हें भी हरी सब्जियां पसंद आ रही हैं। मांसाहार के बुरे नतीजों को लेकर दुनिया चिंताग्रस्त और सावधान हुई है। जब ब्रिटेन में कोरोना वायरस फैला तो घबराहट के रूप में रोटी, दूध की अलमारियां खाली हो गईं। इस अचानक आए बदलाव और डर ने लोगों के मन को वैकल्पिक खाद्य विकल्पों को अपनाने की ओर अग्रसर किया और वेजीटेरियन फूड सुपर मार्केट में दिखने लगा। विश्वभर के डॉक्टर कोरोना के दौर में शाकाहारी भोजन को ही स्वास्थ्य के लिए सबसे बेहतर विकल्प मान रहे हैं।
-डॉ. संध्या पांडे
चीफ क्लीनिकल न्यूट्रीशिनिस्ट
फोर्टिस मेमोरियल रिसर्च इंस्टीट्यूट, गुरुग्राम

————————–
KK-Agarwalशाकाहारी भोजन दिल के रोगों से बचाने, इलाज करने और नियंत्रण करने में हमारी मदद करता है। शाकाहारी भोजन का कम चर्बी और कोलेस्ट्रॉल वाला गुण काफी हद तक कॉरनरी हार्ट डिसीज के लिए जिम्मेवार हाइपरटेंशन, मधुमेह और मोटापे को कम करने व दूर करने में मदद करता है।

इसमें कई तरह के तत्व पाए जाते हैं जो कि आपकी सेहत के लिए बहुत फायदेमंद है।
-डॉ. केके. अग्रवाल
अध्यक्ष, हार्ट केयर फाउंडेशन आॅफ इंडिया

सच्ची शिक्षा हिंदी मैगज़ीन से जुडे अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें FacebookTwitter, LinkedIn और InstagramYouTube  पर फॉलो करें।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here