यूनिट रक्तदान व कैंसर स्क्रीनिंग कैंप

3126 यूनिट रक्तदान व कैंसर स्क्रीनिंग कैंप में 474 लोगों को किया जागरूक
परमार्थ के पुरोधा पूज्य बापू जी को परमार्थी कार्य से दी श्रद्धांजलि
पूज्य गुरु संत डॉ. गुरमीत राम रहीम सिंह जी इन्सां के पूज्य बापू नम्बरदार मग्घर सिंह जी की 15वीं पावन स्मृति में 5 अक्तूबर शनिवार को डेरा सच्चा सौदा द्वारा ‘परमार्थी दिवस’ मनाया गया। इस दौरान शाह सतनाम जी धाम सरसा में विशाल रक्तदान कैंप का आयोजन किया गया।

जिसका शुभारंभ शाही परिवार से साहिबजादे भाई जसमीत सिंह जी इन्सां व इनके पूज्य माता हरजीत कौर जी इन्सां, आदरणीय हुस्नमीत कौर जी इन्सां, साहिबजादियां चरणप्रीत कौर जी इन्सां, अमरप्रीत कौर जी इन्सां, पूज्य गुरु जी के आदरणीय दामाद डॉ. शान-ए-मीत जी इन्सां, रूह-ए-मीत जी इन्सां समेत समस्त शाही परिवार, प्रबंधकीय समिति व साध-संगत ने पावन नारा ‘‘धन-धन सतगुरु तेरा आसरा’’ व विनती का भजन बोलकर किया गया। शिविर के शुभारंभ अवसर पर आदरणीय शाही परिवार के सदस्यों साहिबजादे जसमीत सिंह जी इन्सां, आदरणीय दामाद डॉ. शान-ए-मीत जी इन्सां और रूह-ए-मीत जी इन्सां ने स्वयं रक्तदान किया। वहीं शिविर में पहुंचे हजारों डेरा श्रद्धालुओं में रक्तदान करने के प्रति जबरदस्त उत्साह देखने को मिला।

लम्बी-लम्बी कतारों में खड़े सत्संगी भाई-बहन अपनी-अपनी बारी का बेसब्री से इंतजार करते देखे गए। रक्तदान के लिए महिलाओं में भी उत्सुकता पाई गई। रक्तदान संग्रहण करने पहुंची टीमों द्वारा अपनी जरूरत के अनुसार कुल 3126 यूनिट रक्त संग्रहण किया गया। वहीं परमार्थी दिवस के अवसर पर शाह सतनाम जी स्पेशलिटी हॉस्पिटल द्वारा लगाए गए कैंसर स्क्रीनिंग कैंप में 474 लोगों को जागरूक किया गया। कैंप में डॉ. नेहा गुप्ता, डॉ. देपेन्द्रजीत कौर, डॉ. ज्योति, स्टाफ नर्स संतोष व गगन, रेखा सहित अन्य डाक्टर साहिबानों द्वारा महिलाओं को स्तन कैं सर के लक्ष्ण व उनकी रोकथाम को लेकर जागरूक किया।

गौरतलब है कि पूज्य बापू नम्बरदार सरदार मग्घर सिंह एक ऐसे इन्सान थे, जो दीनता, नम्रता और विनम्रता जैसे देवीय गुणों से ओतप्रोत थे। बापूजी का पूरा जीवन मानवता भलाई के कार्याें को समर्पित रहा। जहां भी कोई गरीब, बेबस इन्सान बापू जी को मिल जाता, तो बरबस ही उनका हाथ मदद के रूप में उनके सिर तक पहुंच जाता। ऐसे असंख्य लोग आज भी इस बात की गवाही भरते हैं कि बापू जी ने उनकी हर मुसीबत में सहायता की। चाहे बेटियों की शादी में आर्थिक मदद की बात हो, या फिर किसी गरीब के घर चूल्हा न जल रहा, बापू जी ऐसे लोगों की मदद के लिए नंगे पांव दौड़े चले आते थे। परमार्थ के ऐसे पुरोधा को जितना नमन् किया जाए उतना कम है।

5 अक्तूबर को पावन स्मृृति दिवस पर करोड़ों की संख्या में डेरा सच्चा सौदा की साध-संगत ने अपने-अपने तरीके से पूज्य बापू जी को कोटिन कोटि नमन् किया। यही है सच्ची श्रद्धांजलि: पूज्य गुरू जी पूज्य गुरू संत डा. गुरमीत राम रहीम सिंह जी इन्सां अकसर रक्तदान को लेकर सत्संगियों की हौसला अफजाई करते रहे हैं। पूज्य गुरू जी के वचन हैं कि अपने माता-पिता एवं पूर्वजों की याद में रक्तदान करना, अंगहीन को भोजनदान, जरूरतमंदों को शिक्षादान करना ही उन्हें सच्ची श्रद्धांजलि है।

रक्तदान शिविर लगाने का उद्देश्य रिकॉर्ड बनाना नहीं है बल्कि ये लक्ष्य रहता है कि रक्त सही जगह पर पहुंचे,
थैलीसीमिया जैसी बीमारी से पीड़ितों तथा जरूरतमंदों को रक्त उपलब्ध हो सके और रक्त की कमी से किसी की जान न जाए।

रक्तदान शिविर के शुभारम्भ अवसर पर विनती का शब्द बोलते हुए आदरणीय शाही परिवार के सदस्य व सेवादार।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here