Surakshit Matritva Aashwasan (SUMAN) Scheme - Sachi Shiksha

भारत सरकार के द्वारा महिलाओं के लिए बहुत बड़ी योजना शुरू की गई है जिसका लाभ देश की हर एक महिला को दिया जाएगा जो गर्भवती है। सरकार के द्वारा गर्भवती महिलाओं को बहुत सारे लाभ दिए जाएंगे जिसके बारे में हम विस्तार में जानेंगे।

विश्व स्वास्थ्य संगठन के आंकड़े के मुताबिक भारत में आज भी ऐसी महिलाएं हैं जो पैसे की कमी के कारण प्रेगनेंसी के दौरान प्रसव घर पर ही करवाती हैं, यह तरीका आमतौर पर बहुत ही कम खर्चीला होता है, लेकिन इस तरीके के दौरान जच्चा और बच्चा दोनों को बहुत सारे खतरे भी हो सकते हैं। इस बड़ी और जटिल समस्या को दूर करने के लिए केन्द्र सरकार ने सुमन योजना की शुरूआत की है।

सुमन योजना यानी कि सुरक्षित मातृत्व आश्वासन योजना। केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने 10 अक्टूबर, 2019 को नई दिल्ली में केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण परिषद के 13वें सम्मेलन के दौरान सुमन योजना का शुभारंभ किया था।

अन्य सरकारी योजनाओं को भी पढ़ें:

हर घर का सपना होगा साकार | प्रधान मंत्री आवास योजना

हर खेत को मिलेगा पानी | पीएम कृषि सिंचाई योजना

60 के बाद मिलेगी गारंटिड पेंशन

सुरक्षित मातृत्व आश्वासन योजना का लाभ

सरकार के द्वारा सुमन योजना की शुरूआत गर्भवती महिलाओं को लाभ देने के लिए किया गया है। योजना के तहत जच्चा-बच्चा दोनों का पूर्ण रूप से ख्याल रखा गया है और इन्हें निम्नलिखित लाभ भी दिए जाएंगे।

  • प्रसव का सारा खर्च सरकार के द्वारा उठाया जाएगा। प्रसव यदि नॉर्मल होता है या आॅपरेशन के द्वारा इस बात से कोई फर्क नहीं पड़ता है। प्रसव पर आए संपूर्ण खर्च सरकार के द्वारा ही भुगतान किए जाएंगे।
  • प्रसव से पहले भी महिलाओं को बहुत सारे टेस्ट करवाने की जरूरत होती है, लेकिन अक्सर आर्थिक रूप से असक्षम महिलाएं यह टेस्ट नहीं करवा पाती हैं, लेकिन सुमन योजना के तहत जिस भी टेस्ट की आवश्यकता होगी, सरकार के द्वारा वह टेस्ट फ्री में करवाया जाएगा।
  • सुमन योजना के तहत सरकार केवल प्रसव तक ही नहीं, बल्कि उसके आगे तक की भी जिम्मेवारी लेती है। बच्चे के जन्म के 6 महीने बाद तक सरकार बच्चे और मां दोनों के लिए दवाइयों का भी इंतजाम करती है और पूरी तरह से इसका भी ध्यान रखती है कि जच्चा और बच्चा दोनों सुरक्षित रहें।
  • यदि गर्भवती महिला को किसी प्रकार की परेशानी होती है या यदि उनके प्रसव के दौरान कोई समस्या या फिर किसी प्रकार के उपचार की जरूरत होती है तो सरकार यह भी मुहैया कराएगी और इलाज पर आए पूरे खर्च का भुगतान भी सरकार के द्वारा ही किया जाएगा।

लाभ लेने के लिए आवश्यक दस्तावेज

  • माता का आधार कार्ड (गर्भवती महिला)
  • आय प्रमाण पत्र
  • अन्य दस्तावेज अनिवार्य हो सकते हैं, योजना लांच के अनुसार।

सुरक्षा मातृत्व आश्वासन योजना के उद्देश्य

देश में बहुत सारी ऐसी महिलाएं हैं जिनके पास पैसा इतना ज्यादा नहीं है पैसे की कमी के कारण गर्भावस्था के समय वह अपनी जरूरतों को पूरा नहीं कर पाती है। ना ही सुचारू रूप से उनका इलाज हो पाता है और ना ही पर्याप्त दवा की जरूरतों को पूरा कर पाती है। ऐसा होने पर प्रसव के समय महिलाओं को काफी समस्या आती है। साथ ही कुछ खराबी हो जाती है तो माता और शिशु दोनों की मृत्यु भी हो जाती है।

इन सभी समस्या को देखते हुए भारत सरकार के द्वारा सुरक्षा मातृत्व आश्वासन योजना यानी सुमन योजना की शुरूआत की है। इस योजना के तहत प्रसव के दौरान अस्पताल में भर्ती और बच्चे के जन्म के ऊपर होने वाले सभी खर्चों को सरकार के द्वारा उठाया जाएगा। साथ ही महिलाओं को इसके तहत लाभ भी दिया जाएगा। बच्चे के स्वास्थ्य से लेकर महिला के स्वास्थ्य और सभी उपयोग में आने वाली दवाई सरकार के द्वारा ही उपलब्ध करवाई जाएंगी। साथ ही महिला का प्रसव नर्सों की निगरानी में कराया जाएगा, ताकि जच्चा और बच्चा दोनों में किसी को समस्या ना हो।

सुरक्षा मातृत्व आश्वासन सुमन योजना की विशेषताएं

  • महिला का कम से कम चार बार एंटे-नेटल चेकअप होगा जिसका सारा खर्च सरकार के द्वारा उठाया जाएगा।
  • पहले छह महीने तक जो गर्भवती महिलाएं हैं उन्हें पूरा इलाज प्रदान किया जाएगा साथ ही पहली तिमाही के दौरान उनका एक चेकअप भी सरकारी सहायता से किया जाएगा।
  • आयरन फोलिक एसिड सप्लीमेंटेशन महिलाओं को करवाना होगा जिसकी सारी जिम्मेवारी अस्पताल की होगी।
  • महिलाओं को टेटनस, डिप्थेरिया का टीका भी लगाया जाएगा, जिससे गर्भवती महिलाओं को किसी प्रकार की बीमारी नहीं होगी।
  • गर्भवती महिलाओं को घर से अस्पताल तक ले जाने में जो भी परिवहन का खर्च भी सरकार द्वारा दिया जाएगा।
  • महिलाओं की गर्भावस्था के दौरान जटिलताओं के कारण सी-सेक्शन की फ्री सुविधा भी उपलब्ध कराई जाएगी।
  • डिलीवरी के 6 महीने के बाद तक महिला तथा शिशु का मुक्त स्वास्थ्य भी उपलब्ध कराया जाएगा।
  • शिशु के जन्म हो जाने के 6 महीने तक महिला और शिशु दोनों को सरकारी मुफ्त चिकित्सा के साथ हर प्रकार की दवाएं भी उपलब्ध कराई जाएगी।

यहां-यहां उपलब्ध हैं स्वास्थ्य सुविधाएं

सरकार के द्वारा महिलाओं और नवजात शिशुओं को विभिन्न स्तर पर स्वास्थ्य सुविधाएं उपलब्ध कराई जाती है। इसी प्रकार सुमन योजना के तहत ग्रामीण और शहरी क्षेत्र की महिलाओं और शिशु को प्रदान की जाने वाली सुविधाएं भी निम्नलिखित है।

ग्रामीण क्षेत्र के लिए

  • प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र
  • सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र
  • ग्रामीण अस्पताल
  • उप-जिला अस्पताल
  • जिला अस्पताल
  • मेडिकल कॉलेज अस्पताल

शहरी क्षेत्र के लिए

  • प्रथम शहरी औषधालय
  • दूसरा शहरी स्वास्थ्य डाक
  • तीसरा मातृत्व गृह

सुरक्षित मातृत्व आश्वासन सुमन योजना में आवेदन

यदि आप आॅफलाइन माध्यम से आवेदन करना चाहते हैं तो आपको अपने नजदीकी सरकारी अस्पतालों में जाना होगा और वहां जाकर पर्ची बनवाकर इस योजना में पंजीकरण करवा सकते है और सुरक्षित मातृत्व आश्वासन सुमन योजना का लाभ उठा सकते है।

अधिक जानकारी के लिए विभाग की वेबसाइट https://pmsma.nhp.gov.in/pmsma-app/VolunteerController/volunteerRegistration पर जाकर संपर्णू जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here