In the Corona era, protecting the environment, Dera Sacha Sauda

पावन जन्मोत्सव: डेरा सच्चा सौदा की साध-संगत ने अनूठे अंदाज से मनाया पावन अवतार दिवस

पूज्य गुरु संत डॉ. गुरमीत राम रहीम सिंह जी इन्सां के पावन अवतार दिवस (15 अगस्त) के उपलक्ष्य में पौधारोपण करते हुए पूजनीय माता नसीब कौर जी इन्सां (पूज्य गुरु जी के आदरणीय माता जी) व आदरणीय शाही परिवार के सदस्य।

एक दिन में लगाए सवा 6 लाख पौधे

पर्यावरण संरक्षण में अग्रणी भूमिका निभाने वाला डेरा सच्चा सौदा अपने हर उत्सव में परमार्थ की सीख देता है। 15 अगस्त का पावन दिवस डेरा अनुयायियों के लिए दोहरी खुशियों का अवसर लेकर आता है। पूज्य गुरु संत डॉ. गुरमीत राम रहीम सिंह जी इन्सां ने इस दिन पावन तपोभूमि श्रीगुरूसर मोडिया में अवतार धारण किया। डेरा प्रेमियों के लिए यह जीवन का सबसे बड़ा महोत्सव है। वहीं पूरा देश इस दिन को जहां आजादी की वर्षगांठ के रूप में मनाता है, ऐसे मेें डेरा प्रेमियों के लिए यह अवसर देशभक्ति के साथ गुरुभक्ति का नमूना पेश करता है।

डेरा अनुयायियों ने गत 15 अगस्त को पूज्य गुरु संत डॉ. गुरमीत राम रहीम सिंह जी इन्सां का 53वां अवतार दिवस बड़ी धूमधाम से मनाया। संगत ने इस पावन दिवस को मानवता भलाई को समर्पित करते हुए पर्यावरण संरक्षण के लिए कार्य किया। इस दिन देश-विदेश में बैठी साध-संगत ने 6 लाख 25 हजार 798 पौधे रोपित कर उन्हें भविष्य में संरक्षित करने का निश्चय किया। खास बात यह भी रही कि पौधारोपण के समय साध-संगत ने सामाजिक दूरी के नियमों का पूरा पालन करते हुए अपने घर, खेत या आस-पास के एरिया में ही पौधारोपण किया।

इस पौधोरापण अभियान में अग्रणी भूमिका पूज्य माता नसीब कौर जी इन्सां (पूज्य गुरु संत डॉ. गुरमीत राम रहीम सिंह जी इन्सां के पूज्य माता जी) व आदरणीय शाही परिवार के सभी सदस्यों व डेरा प्रबंधन समिति सदस्यों की रही, जिन्होंने अपने-अपने निवास पर पौधारोपण किया। वहीं इस अवसर पर डेरा सच्चा सौदा की प्रबंधन समिति की ओर से उपकार कॉलोनी में 53 जरूरतमंद परिवारों को राशन वितरित किया गया।

उधर हरियाणा, पंजाब, राजस्थान, उत्तर प्रदेश, दिल्ली, उत्तराखंड, हिमाचल प्रदेश, मध्य प्रदेश, महाराष्टÑ, छत्तीसगढ़, कर्नाटक, गुजरात सहित पूरे देश में साध-संगत ने अपने-अपने स्तर पर पौधारोपण किया। विदेशों में भी साध-संगत ने पर्यावरण प्रहरी की भूमिका निभाई। आॅस्ट्रेलिया, न्यूजीलैंड, यूके, दोहा कत्तर, अमेरिका, कनाडा, दुबई और इटली सहित कई देशों में पौधारोपण किया गया।

इस पावन उपलक्ष्य में साध-संगत ने कई ब्लॉकों में रक्तदान कैंपों का भी आयोजन किया। शाह सतनाम जी स्पेशिलिटी अस्पताल स्थित पूज्य बापू नम्बरदार मग्घर सिंह जी इंटरनेशनल ब्लड बैंक में भी साध-संगत ने बड़ी संख्या में रक्तदान किया।

गौरतलब है कि डेरा सच्चा सौदा द्वारा पर्यावरण संरक्षण के तहत अब तक 4 करोड़, 10 लाख 54 हजार से ज्यादा पौधे रोपित किए जा चुके हैं। पर्यावरण संरक्षण मुहिम के तहत दुनियाभर में किए गए पौधारोपण में चार विश्व रिकॉडर्स शामिल हैं। पूज्य गुरु जी ने समाज में व्याप्त कुरीतियों का खात्मा करने के लिए बड़े स्तर पर जागरूकता अभियान चलाते हुए मानवता भलाई के 134 कार्य शुरू किए हैं,

जिनकी बदौलत आज मानवता भलाई कार्यों में डेरा सच्चा सौदा के नाम 79 गिनीज वर्ल्ड रिकॉडर्स तथा एशिया व इंडिया बुक आॅफ रिकॉडर्स में दर्ज हैं। इन वर्ल्ड रिकॉडर्स में से पूज्य गुरु जी के नाम रक्तदान, नेत्र जांच, महा सफाई अभियान, पौधारोपण, रक्तचाप (ब्लडप्रैशर) जांच, कोलेस्ट्राल जांच, डाइबीटिज जांच व दिल की इको जांच सहित विभिन्न क्षेत्रों में गिनीज बुक आॅफ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स शामिल हैं।

पूज्य गुरु जी के पावन अवतार दिवस (15 अगस्त) के उपलक्ष्य में पौधारोपण करते हुए आदरणीय शाही परिवार के सदस्य।

पौधारोपण में डेरा सच्चा सौदा के नाम दर्ज चार गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड

  • 15 अगस्त 2009 को मात्र एक घंटे में लगाए 9 लाख 38 हजार 007 पौधे।
  • 15 अगस्त 2009 को 8 घंटों में रोपित किए 68 लाख 73 हजार 451 पौधे।
  • 15 अगस्त 2011 को मात्र एक घंटे में लगाए 19 लाख 45 हजार 535 पौधे।
  • 15 अगस्त 2012 को मात्र 1 घंटे में संगत ने 20 लाख 39 हजार 747 पौधे लगाए।

कहाँ कितने पौधे लगाए

  1. हरियाणा 1,69,972
  2. उत्तर प्रदेश 1,60,791
  3. पंजाब 1,55,131
  4. राजस्थान 65,391
  5. दिल्ली 40142
  6. उत्तराखंड 31,140
  7. हिमाचल प्रदेश 4000
  8. मध्य प्रदेश 2512
  9. महाराष्टÑ 634
  10. छत्तीसगढ़ 557
  11. कर्नाटक 148
  12. गुजरात 104

विदेशों में

  1. आॅस्ट्रेलिया 1314
  2. न्यूजीलैंड 620
  3. यूके 115
  4. दोहा कत्तर 155
  5. अन्य देश 1072  (अमेरिका, कनाड़ा, दुबई और इटली सहित)

सच्ची शिक्षा हिंदी मैगज़ीन से जुडे अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें FacebookTwitter, और InstagramYouTube  पर फॉलो करें।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here