ऐसे बनाएं रिश्ते को घनिष्ठ

ऐसे बनाएं रिश्ते को घनिष्ठ

हम सभी लोग सदैव अपने रिश्ते को मजबूत बनाने अथवा बचाने हेतु अथक प्रयासरत रहते हैं किंतु इसके बावजूद कई दफा रिश्ते को नहीं बचा पाते। अंतत: हम न चाहते हुए भी हताश व निराश होकर रिश्ता तोड़ देते हैं।

अगर आप भी अपने घनिष्ठ रिश्ते को लेकर अक्सर परेशान रहते हैं यानी मजबूत बनाने में खुद को असमर्थ पाते हैं तो आइए यहां जानते हैं उन खास टिप्स के बारे में जो कि हमारे रिश्ते को मधुर व मजबूत बनाने हेतु नितांत आवश्यक होते हैं।

दूसरे की बातों को महत्त्व दें:

कहते हैं कि मधुर रिश्ता बनाने के लिए जितना बोलना जरूरी होता है, उससे कहीं अधिक सुनना अनिवार्य होता है। इसलिए हमेशा स्मरण रखें कि अपने रिश्ते को मजबूत बनाने के लिए आपका सबसे पहला कदम यही होना चाहिए कि आप दूसरों की बातों को अधिकाधिक तवज्जो दें।

वाणी में मिठास बनाए रखें:

रिश्ते को मधुर बनाने के लिए बेहद जरूरी होता है अपनी वाणी को मधुर बनाए रखना क्योंकि इसके बलबूते आप अपने टूटते रिश्ते को भी बचा सकते हैं। कुछ लोगों में यह कला प्राकृतिक रूप से विद्यमान होती है, जबकि कुछ समय और समाज के संग इसको विकसित कर लेते हैं। इस प्रकार पारस्परिक रिश्तों को मजबूत करने हेतु दूसरों से मधुर आवाज में ही बात करें। कहने का तात्पर्य यह है कि प्रेम से बोलना अति अनिवार्य है।

नजरें मिलाकर बात करें:

अनेक सलाहकार विशेषज्ञों का कहना है कि दूसरों से आंखों में आंखें डालकर बात करने से हमारी बातों में विश्वास और मजबूती दिखाई देती है जिससे वह व्यक्ति आपसे कभी झूठ बोलने की हिम्मत नहीं जुटा पाता। इसलिए यदि आप वाकई अपने रिश्ते को लेकर अधिक संजीदा हैं तो दूसरों के साथ नजरें मिलाकर ही बातें करें।

सामने वाले के चेहरे को पढ़ना जानें:

रिलेशन एक्सपर्ट्स कहते हैं कि यह जरूरी नहीं कि आपका परम् मित्र अथवा पार्टनर आपको सारी बातें सच- सच अपने मुंह से बयां ही करे, तभी आपको पता चले बल्कि आपको दूसरे के चेहरे के भावों को भी भली-भांति पढ़ना आना बेहद जरूरी होता है। इसके लिए आप कभी-कभी दूसरे के चेहरे के भावों से उसके मूड को भी भांपने का प्रयास अवश्य करें। नि:संदेह ऐसा करने से आपका रिश्ता और अधिक मजबूत होगा, क्योंकि इससे दूसरे लोगों को भी यह लगेगा कि आप उसे अच्छी तरह समझने की महारथ रखते हैं।

आपसी समझ का होना जरूरी:

देखने में आया है कि हम जिसके साथ सदैव घुलमिल कर रहते हैं उसे कभी भी पूरी तरह से नहीं जान व समझ पाते हैं। इससे आगे चलकर रिश्ता टूटने की कगार तक पहुंच जाता है। वाकई यह किसी भी रिश्ते के लिए घातक सिद्ध हो सकता है जिसको हम समझने का तनिक भी प्रयास नहीं करते। जबकि सच्चाई यह है कि ऐसा करना हरेक रिश्ते हेतु सरासर गलत होता है, क्योंकि जब तक आपके बीच बेहतर तालमेल नहीं होगा, तब तक आप दोनों के बीच में आपसी समझ भी गहरी नहीं होगी। इसीलिए रिश्ते में घनिष्ठता लाने हेतु आपस में नजदीकियां लाते हुए बेहतर ढंग से बातचीत करके एक दूसरे को समझने की भरपूर कोशिश अवश्य करें।

झूठ से दूरी बनाकर रखें:

अधिकांश रिलेशन एक्सपर्ट मानते हैं कि किसी रिश्ते में दूरी तभी देखने को मिलती है जब आप दूसरे से किसी बात को छुपाने के लिए झूठ का सहारा लेते हैं। अतएव यदि आप अपने संबंधों में गहराई लाने के तनिक भी इच्छुक हैं तो झूठ का सहारा कदापि नहीं लें तो बेहतर होगा। किसी बात को झूठ बोलकर आप नि:संदेह कुछ समय तक के लिए किसी को बेवकूफ जरूर बना सकते हैं लेकिन जिस दिन उसे सच्चाई का पता चलेगा,तब आपके घनिष्ठता भरे रिश्ते को टूटने से कोई भी नहीं बचा पायेगा। इसलिए हमेशा ध्यान रखें कि आपको अपने गहरे रिश्ते के दरम्यान कभी भी झूठ का दामन नहीं पकड़ना है।

तारीफ करना भी सीखें:

यदि आपके किसी दोस्त या संबंधी ने वाकई कोई ऐसा काबिलेतारीफ काम किया है तो ऐसे समय में उसकी तारीफ करना कतई न भूलें। यकीनन ऐसा करने से उसका उत्साह तो दुगुना होगा ही, साथ ही वह आपके लिए सदैव कुछ नवीन करने का भरसक प्रयास करता रहेगा। इसलिए जहां तक हो सके, दोस्त अथवा पार्टनर की तारीफ हमेशा दिल खोलकर करें। इसके लिए कभी एकांत में तो कभी दूसरों के समक्ष करना कतई नहीं भूलें। यकीन मानिये यह आपके रिश्ते मधुर बनाकर मजबूत करने में कोई कसर शेष नहीं छोड़ेगा। और तो और, इससे आपका विश्वास और संबंध दोनों ही भविष्य में और अधिक दृढ़ होता नजर आयेगा। – अनूप मिश्रा

सच्ची शिक्षा हिंदी मैगज़ीन से जुडे अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें FacebookTwitterGoogle+, LinkedIn और InstagramYouTube  पर फॉलो करें।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here