long age of vegetarianism

शाकाहार से पाएं लम्बी उम्र
कुछ समय पहले तक यह मान्यता थी कि मांसाहार से शरीर बलवान होता है. शरीर को बलवान बनाने के लिए मांसाहार पर ही ज़ोर दिया जाता था, पर अब धारणा बदलने लगी है। दुनिया के कई देशों में शाकाहार को प्राथमिकता दी जाने लगी है।

“फ्रेंड्स ऑफ़ अर्थ“ नामक संस्था के मुताबिक दुनिया में ५० करोड़ लोग पूरी तरह से शाकाहारी हैं। भारत में सबसे ज्यादा ३0ः जनसँख्या शाकाहारी है। अमेरिका के नेशनल अकेडमी ऑफ़ साइंस कि स्टडी के मुताबिक, अगर शाकाहार को भोजन में ज्यादा से ज्यादा जगह दी जाए, तो दुनिया में हर साल होने वाली ५० लाख मौतों को टाला जा सकता है।

पश्चिम के पूर्ण विकसित और सम्पन्न जनसमुदायों ने भी शाकाहार को अपनाकर इसके महत्व को माना है। स्वीडन के प्रसिद्ध अब्बा बंद की सदस्य ऐनी ने पिछले २५ सालों से मांस नहीं खाया। वे कहती हैं कि उनकी खूबसूरती तथा सेहत का राज उनका शाकाहार होना है। इसी तरह स्पेन की स्टार सोपरानी (गायिका) का दिल भी जानवरों के लिए धड़कता है। वे शुद्ध शाकाहारी हैं।

म्यूजिक बैंड के कई सदस्य उन सेलिब्रिटी की लिस्ट में हैं जो दिल से शाकाहारी हैं। पशु के लिए अपने प्रेम के लिए ट्विन्स स्टार टॉम एंड और बिल कॉलिप्स २००९ में शाकाहार हुए। कई बैंड के सदस्यों के लिए तो शाकाहार होना अनिवार्य है। यह सदस्य अपने कार्यक्रमों के बाद शाकाहार होने के टिप्स भी देते हैं। माइक टॉयसन, (बॉक्सिंग), कार्ल लुइस ((एथलीट) , वीनस विल्लियम्स (टेनिस), मार्टिना नवरातिलोवा (टेनिस), बिली जिन किंग, व सुशील कुमार (कुश्ती), यह सभी शाकाहार को स्वस्थ व सेहतमंद जीवन की कुंजी मानते हैं।

बीमारियां रहेंगी दूरः

भारत में ह््रदय से जुडी बीमारियां, डायबिटीज और कैंसर के मामले तेज़ी से बढ़ रहे हैं और इसका सीधा संबंध मांस, अंडे और डेरी उत्पादों जैसे मक्खन, पनीर और अन्य ऐसी ही चीज़ों की खपत से है, भारत में तेज़ी से बढ़ रहे डायबिटीज-२ से पीड़ित लोग शाकाहार अपनाकर तेज़ी से इस पर नियंत्रण पा सकते हैं। शाकाहारी खाने से केलेस्ट्रॉल नहीं बढ़ता। शाकाहार में बहुत कम वसा होती है और यह कैंसर के खतरे को ४०ः तक कम करता है।

मनुष्य के शरीर के लिए ऊर्जा, शक्ति और पोषण हेतु प्रोटीन, शर्करा, वसा विटामिन्स खनिज पदार्थ एवं रेशे आदि उचित अनुपात में अत्यंत आवश्यक हैं। शाकाहार में सभी प्रकार के पौष्टिक और श्रेष्ठ गुणवत्ता युक्त तत्व पर्याप्त मात्रा में विद्यमान होते हैं। भारी भरकम और कुपाच्य मांसाहार की तुलना में साधारण से न्यूनतम शाकाहारी पदार्थों से शरीर को आवश्यक पोषण और ऊर्जा प्रदान की जा सकती है। शाकाहार संस्कृति में इन पोषक मूल्यों का प्रबंधन युगों-युगों से चला आ रहा है।

इतना ही नहीं बहुमूल्य खनिज का शाकाहार से ही प्राप्त होना संजीवनी बूटी के समान है, जो कि मांसाहार पर्दार्थों में नदारद है। विटामिन-सी तो आप कभी भी मांसाहार से पा ही नहीं सकते। तीन पुरस्कारों से सम्मानित रेखा ने अपनी शानदार फिटनेस का राज शाकाहारी आहार और योग को बताया। इसके अलावा अभिनेत्री अनुष्का शर्मा को जानवरों से बेहद प्यार है और वे कहती हैं कि वह जानवरों को प्यार करने में विश्वास करती हैं उन्हें खाने में नहीं।

विद्या बालन ने २०१० में ’पेटा’ की तरफ से एशियाज़ हॉटेस्ट वेजिटेरियन क्राउन जीता था। अमिताभ बच्चन को तीन बार हॉटेस्ट वेजिटेरियन सेलिब्रिटी बनाया जा चुका है।
शाहिद कपूर, आमिर खान, आलिया भट्ट और हेमा मालिनी ने शाकाहारी जीवन शैली अपनाई है। ये सभी अपनी ख़ूबसूरती तथा फिटनेस का राज़ शाकाहारी भोजन को ही मानते हैं। फ़्रांस के कुछ स्कूलों में शाकाहारी भोजन की मुहिम चल पड़ी है। इस मुहिम को ७५,००० बच्चों का समर्थन मिल चुका है।

स्वस्थ बनाने वाले फ़ूडः

आलूः आलू त्यागने का यह कोई कारण नहीं है कि यह सफेद हैं और खराब स्टार्च की तरह लगते हैं। जब तक इन्हें डीप फ्राई न किया जाए, तब तक आलू आपके दिल के लिए अच्छे हो सकते हैं। इनमें प्रचुर मात्रा में पोटेशियम है, जो रक्तचाप को कम करने में मदद कर सकता है। इनमें फाइबर भी बहुत है, जो दिल की बीमारी के जोखिम को कम कर सकता है।

टमाटरः

यूण्एसण् में टमाटर का उपयोग बढ़ गया है और यह एक अच्छी बात है। आलू की तरह टमाटर में भी दिल को दुरुस्त रखने वाला पोटैशियम बहुत होता है। साथ ही यह एंटीऑक्सीडेंट लाइकोपीन का भी अच्छा स्त्रोत है। लाइकोपीन एक कैरोटेनाइड है जो खराब केलोस्ट्राल से छुटकारा पाने में, रक्त नलिकाओं को खुला रखने में और हार्ट अटैक के जोखिम को घटाने में मदद कर सकता है।

ब्रोकली पालक व गोभी :

जब बात आपकी सेहत की हो तो आप सब्जियों के साथ कुछ गलत नहीं चुन सकते हैं, लेकिन हरी सब्जियां आपके दिल को अतिरिक्त बूस्ट दे सकती हैं। इनमें केरेटोनॉइड्स बहुत होता है, जो एंटीऑक्सिडेंट्स की तरह काम करता है और आपके शरीर को संभावित नुकसान से मुक्त रखता है। इसमें ढेर सारे फाइबर, विटामिन्स व मिनरल्स होते हैं।

एवीकाडीः

यह मुलायम, स्वादिष्ट फल शरीर व दिल को सेहतमंद फैट देने के लिए काफी प्रसिद्ध है। जैतून के तेल की तरह, इनमें भी मोनोअनसेचुरेटेड फैट बहुत होता है, जो दिल की बीमारी के खतरनाक कारकों को कम कर सकते है, जैसे कि कोलेस्ट्रॉल। इनमें एंटीऑक्सिडेंट्स व पोटैशियम भी बहुत होता है। इन्हें ऐसे ही खाया जा सकता है।

सच्ची शिक्षा हिंदी मैगज़ीन से जुडे अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें FacebookTwitterGoogle+, LinkedIn और InstagramYouTube  पर फॉलो करें।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here