LIC Kanyadan Policy - A Boon for Daughters - Sachi Shiksha Hindi

बेशक आज बेटियां अपने बलबूते समाज में अपनी एक पहचान बना चुकी हैं, लेकिन एक पिता के लिए बेटी को लेकर कई तरह की चिंताएं मन में हमेशा विचरती रहती हैं। इनमें सबसे बड़ी जिम्मेवारी बेटी की शादी को लेकर होती है। बेटी की शादी के लिए पैसे जुटाने के लिए, पूरी जिंदगी कम पड़ जाती है।

आवश्यक है कि इसके लिए कोई ऐसी योजना तैयार की जाए, जो सुनिचित करे कि वह बेटी की शिक्षा, विवाह और उसकी जिंदगी को वित्तीय सुरक्षा देगी। केंद्र सरकार द्वारा समाज में कन्या भ्रूण हत्या जैसी अपराध पर काबू पाने के लिए कन्या हित में अनेक योजनाओं को लागू किया गया है। जिसमें कन्या के जन्म पर गर्भवती महिलाओं एवं कन्या के स्वास्थ रक्षा के लिए धनराशी दिए जाने, सुकन्या समृद्धि योजना कन्याओं के उज्जवल भविष्य हेतु, बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना आदि। ऐसी ही एक पॉलिसी भारतीय जीवन बीमा निगम द्वारा एलआईसी कन्यादान पालिसी शुरू की गई है, जोकि कन्या के अभिभावक को शादी के खर्च की योजना जन्म से ही बनाने के लिए प्रोत्साहित करती है।

लाइफ इंश्योरेंस कॉपोर्रेशन आॅफ इंडिया (एलआईसी) देश की सबसे भरोसेमंद बीमा कंपनी मानी जाती है। कंपनी की अलग-अलग पॉलिसी हैं जिनमें गरीब से लेकर अमीर तबके के लोग आसानी से निवेश कर सकते हैं। आज हम आपको एक ऐसी पॉलिसी के बारे में बताने जा रहे हैं जिसे एलआईसी ने बेटी की शादी के लिए ही बनाया है।

Also Read: सुरक्षित मातृत्व आश्वासन योजना

इस पॉलिसी का नाम ‘जीवन लक्ष्य’ पॉलिसी (टेबल नंबर 933) रखा है। इसे कन्यादान पालिसी के नाम से भी जाना जाता है। इस योजना में 121 रुपए रोज के हिसाब से करीब 3600 रुपए की मंथली प्रीमियम पर यह प्लान मिल सकता है। लेकिन अगर कोई इससे कम प्रीमियम या इससे ज्यादा प्रीमियम भी देना चाहे तो यह प्लान मिल सकता है।

यह एंडोमेंट प्लान है। इसमें निवेश करने के लिए न्यूनतम उम्र 18 साल तय की गई है। वहीं अधिकतम उम्र 50 वर्ष निर्धारित है। पॉलिसी टर्म की बात करें तो यह 13 से 25 साल निर्धारित है। खास बात यह है कि आप जितने भी साल का टर्म चुनेंगे उसमें से तीन साल कम ही आपको प्रीमियम भरना होगा। इस पॉलिसी में न्यूनत सम एश्योर्ड 1 लाख रुपये तो वहीं अधिकतम की कोई सीमा नहीं है। इस पॉलिसी में डेथ बेनिफिट भी दिया जाता है। पॉलिसीधारक की मृत्यु की स्थिति में बाकी बचे हुए वर्षों के लिए प्रीमियम नहीं लिया जाता। इसके साथ ही नॉमिनी को हर साल पॉलिसीधारक के सम एश्योर्ड का 10 फीसदी मिलता रहता है, यह अमाउंट तब तक मिलेगा जब तक पॉलिसी की मैच्योरिटी पूरी नहीं हो जाती। वर्तमान में ऐसी बचत आने वाले जीवन को सुखद बनाने में मददगार बनती है।

उदाहरण के तौर पर एक 25 साल का व्यक्ति अपनी 3 साल की बेटी की शादी के लिए 15 लाख का बजट बनाना चाहता है तो:

उम्र: 25, टर्म 20, पीपीटी: 17

  • पहले साल प्रीमियम 4.5% टैक्स के साथ:
    वार्षिक: 47479/-
    अर्धवार्षिक: 23990/-
    त्रैमासिक: 12120/-
    मासिक: 4040/-
  • दूसरे साल प्रीमियम से 2.25% टैक्स के साथ:
    वार्षिक: 46456/-
    अर्धवार्षिक: 23990/-
    त्रैमासिक: 11859/-
    मासिक: 3953/-
  • कुल अनुमानित देय प्रीमियम: 790775/-
  • मैच्योरिटी पर कुल अनुमानित रिटर्न
    15,28,000

अगर बीच में ही पिता की मृत्यु हो जाती है तो:

  • सारी किस्तें माफ हो जाती हैं।
  • पिता की साधारण मृत्यु होने पर 8.80 लाख और एक्सीडेंटल मृत्यु होने पर 17.80 लाख रुपये मिलेंगे।
  • बेटी की शिक्षा के लिए 80 हजार सालाना मिलते रहेंगे।
  • इसके अलावा पालिसी पीरियड पूरा होने पर बेटी की शादी के लिए पंद्रह लाख रुपये फिर मिलेंगे।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here