यूं रखिए अपने फ्रिज को स्वस्थ

यूं रखिए अपने फ्रिज को स्वस्थ फ्रिज की सही देखभाल तथा रख-रखाव सहित फल-सब्जियां, दूध तथा अन्य पके हुए भोज्य पदार्थों को फ्रिज में सुरक्षित रखने हेतु बरती जाने वाली सावधानियों की जानकारी फ्रिजधारकों को अवश्य रहनी चाहिए क्योंकि संबंधित मामलों में बेहतर तरकीबों की जानकारी होने से कोई अतिरिक्त खर्च किये बगैर आपका फ्रिज सदैव स्वस्थ रहकर आपका काम करता रहेगा।

फ्रिज की उपयोगिता फ्रिज के सही इस्तेमाल करने की अपनी दक्षता एवं स्वविवेक पर पूरी तरह निर्भर करती है। फ्रिज खरीदने से पूर्व यह सावधानी अपनाएं कि बिजली के वोल्टेज में उतार-चढ़ाव से फ्रिज पर होने वाले कुप्रभाव से बचने के लिए सबसे कम वोल्टेज पर चलने वाले तथा अधिकाधिक वोल्टेज सहन करने वाले फ्रिज की ही खरीद करें।

फ्रिज की खरीद के बाद वारन्टी पीरियड में किसी भी प्रकार की खराबी आने पर स्वयं बनवाने का प्रयास करने के बजाय उसे सीधे विके्रता अथवा कंपनी के अधिकृत मैकेनिक से ही दिखाना चाहिए।

फ्रिज को दीवार से सटाकर कभी नहीं रखना चाहिए। इसे हवादार स्थान पर ही रखने की व्यवस्था करें। फ्रिज के पीछे से दीवार की दूरी न्यूनतम 6 इंच तथा अन्य दो तरफ से दीवार की दूरी न्यूनतम 4 इंच अवश्य होनी चाहिए। सूर्य की कड़ाकेदार रोशनी तथा गैस के चूल्हे की गर्मी से फ्रिज प्रभावित न हो, इसका ध्यान अवश्य रखना चाहिए।

प्रत्येक सप्ताह फ्रिज की सफाई अवश्य की जानी चाहिए। फ्रिज की सफाई करने से पहले फ्रिज में विद्युत आपूर्ति को बंद कर देना चाहिए। इसके बाद चिलर टेÑ तथा अन्य बाहर निकलने योग्य सभी सामानों को निकाल लें। अब एक चम्मच बेकिंग पाउडर लेकर दो लिटर पानी में मिलाकर साधारण गरम कर लें।

फ्रिज के कैबिनेट के भीतरी हिस्से को इसी घोल अथवा किसी डिटर्जेन्ट घोल (कोलीन आदि) से मुलायम एवं साफ कपड़े की मदद से अच्छी तरह साफ कर लें और बाहर निकाले गए सामानों की भी इसी घोल से सफाई कर लें। इस समय सावधानी यह रखें कि फ्रिज के अंदर के लाइट बल्ब, सॉकेट पर पानी न गिरने पाए तथा फ्रिज के निचले हिस्से में जल जमाव न होने पाए।

अच्छी तरफ साफ करने एवं उसे सुखा लेने के बाद सेल्फ में एक किनारे बेकिंग सोडा का थोड़ा खुला पैकेट रख दें, ताकि वायु शुद्धिकरण का काम यह पाउडर बखूबी कर सके। यह पाउडर भोज्य पदार्थों की गंध को भी शोषित कर लेता है। इससे फ्रिज के अंदर खुशबू भी बनी रहती है।

प्रत्येक दो माह में बेकिंग पाउडर के डिब्बे को हिलाकर ऊपर-नीचे अवश्य कर लें। छ: माह बाद पैकेट को बदल दें।
फ्रिज के बाहरी भागों को सर्फ या साबुन का घोल बनाकर गर्म करके साफ करना चाहिए।

यह ध्यान रखें कि फ्रिज के बाहरी हिस्से को साफ करने में बेकिंग सोडा, बरतन मांजने वाले पाउडर, अम्ल या किसी पॉलिश करने वाले पदार्थ का प्रयोग कतई न करें। इससे फ्रिज के रंग पर बुरा असर पड़ेगा। अगर एक सप्ताह के लिये कहीं बाहर जा रही हों तो फ्रिज के कनेक्शन को काटकर पूरी तरह साफ कर सुखा लें।

फ्रिज में अधिक गर्म भोज्य पदार्थ कभी न रखें। दूध को गर्म करके ठंडा करने के बाद ही रखें। फलों व सब्जियों को अलग-अलग रखें। बहुत अधिक पके फल न रखें। पके हुए भोज्य पदार्थों को ढक्कनयुक्त बरतन में ही बंद करके रखें। पके हुए भोजन को एक दिन से अधिक फ्रिज में रखने पर उसकी गुणवत्ता समाप्त हो जाती है।

बड़े बरतनों में सामान रखकर फ्रिज में रखने की प्रवृत्ति से बचना चाहिए। फ्रिज में अखबार अथवा बड़े प्लास्टिक शीटों से भी भोज्य पदार्थों को न ढकें। फ्रिज में बड़े बरतनों के रखने पर उसकी कूलिंग क्षमता घटती है। सोडावाटर या सोडायुक्त पेय को फ्रीजर में नहीं रखना चाहिए।

फ्रिज में एक बार बर्फ बन जाने के बाद उसका उपयोग कर लें या फेंक दें किंतु इसके पिघल जाने के बाद दुबारा बर्फ बनने पर इसका उपयोग नहीं करना चाहिए।

फ्रिज के चालू रहने पर दरवाजा अधिक देर तक खुला नहीं छोड़ना चाहिए। इससे फ्रिज के अंदर का तापमान बढ़ सकता है। दरवाजे को पूरी तरह चिपका देना चाहिए अन्यथा तिलचट्टे् या चींटी घुस सकते हैं।

फ्रिज का ठीक से इस्तेमाल न करने पर वह बार-बार खराब होने लगता है। ऐसे बीमार फ्रिज की अवधि अधिक दिनों तक नहीं होती। बार-बार की खराबी व कार्य ठीक न कर सकने की लाचारी से बचे रहने के लिए यह आवश्यक है कि उसका रख-रखाव ठीक रखा जाए। -आनन्द कुमार अनन्त

सच्ची शिक्षा हिंदी मैगज़ीन से जुडे अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें FacebookTwitterGoogle+, LinkedIn और InstagramYouTube  पर फॉलो करें।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here