How To Make A Good Father Father's Day Special (June 20)

कैसे बनें अच्छे पिता -फादर्स-डे विशेष (20 जून)
एक अच्छा पिता बनना कोई आसान बात नहीं है। इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि आपके बच्चे की उम्र क्या है या आपके कितने बच्चें हैं, आप को यह जानना होगा कि एक पिता का काम कभी भी खत्म नहीं होता है।

एक अच्छे पिता होने के नाते आपको हमेशा साथ होना चाहिए, एक अच्छा अनुशासनात्मक और प्रेरणास्रोत होना चाहिए, और अपने बच्चों की हर एक छोटी-से-छोटी जरूरत के लिए भी सहानुभूति रखने वाला होना चाहिए।

यदि आप जानना चाहते हैं कि एक अच्छा पिता होने के लिए क्या- क्या करना चाहिए, तो बस इन चरणों का पालन करें।

अपने बच्चों के लिए समय निकालें:


यदि आप एक अच्छा पिता बनना चाहते हैं तो आपको अपने बच्चों के लिए कुछ समय हर दिन अलग निकाल के रखना होगा-या फिर कम से कम हर हफ्ते-फिर चाहे आप कितने भी व्यस्त क्यों न हों। बच्चों के साथ बिताये जाने वाले इन पलों को अपने शडयूल में शामिल करें। हो सकता है, आपके बच्चों को कुछ खास दिनों जैसे मंगलवार, गुरुवार और रविवार के दिन आपके साथ समय बिताना अच्छा लगता हो। उन दिनों में अतिरिक्त ध्यान देने के लिए समय निकालें और अन्य प्रतिबद्धताओं को रास्ते में ना आने दें।

उनके यादगार समय में उनके साथ रहें:

अपने समय को इस तरह नियोजित करें कि आप अपने बेटे/बेटी के स्कूल के पहले दिन साथ हों, आपके बेटे/बेटी की पहली बड़ी खेल स्पर्धा, या फिर आपके बेटे/बेटी के उच्च विद्यालय के स्नातक स्तर की पढ़ाई के समारोह में साथ रहें। आपके बच्चों को ये क्षण जीवन भर याद रहेंगे और आपका उस समय वहां होना उनके लिए बहुत मायने रखता है। जब आपका बच्चा अपने किसी माइलस्टोन को छू रहा हो, हो सकता है उस समय आप बहुत व्यस्त हों, लेकिन यदि आपने इस अवसर को खो दिया तो आप जीवन भर इसके लिए पछतायेंगे।

अपने बच्चों को महत्वपूर्ण पाठ सिखाएं:

आप अपने बच्चों को जीवन के बुनियादी कार्यों को पूरा करना सिखाने के लिए मौजूद होना चाहिए। अपने बच्चे को दांतों को अच्छी तरह साफ करना, बाथरूम का उपयोग करना, मोटर साइकिल चलाना सीखना या फिर समय आने पर गाड़ी चलाना सीखने में आप मदद कर सकते हैं। आप अपने बेटों को दाढ़ी बनाना और अच्छे स्वास्थ्य को बनाए रखना सिखा सकते हैं। आपके बच्चों को रोजमर्रा के छोटे-छोटे कार्यों से लेकर के जीवन के बड़े-बड़े सबक सीखने में आपकी आवश्यकता होगी।

मजबूत संपर्क का विकास करें:

अपने बच्चों के जीवन के महत्वपूर्ण क्षणों में आपका उपस्थित होना बहुत महत्वपूर्ण है और इसलिए अपने बच्चों के साथ संवाद करने में सक्षम रहें, जब आप वहां मौजूद हों। आवश्यक नहीं कि आप अपने बच्चों के साथ हमेशा बाहर घूमने जाएं और मौज मस्ती करें-आप सिर्फ उनकी चिंताओं और संघर्ष को समझने के लिए, उन लोगों के साथ संवाद करने में अपने को सक्षम बनाने पर ध्यान केंद्रित करें। सुनिश्चित करें, कि आप अपने बच्चों से हर दिन जांच करें ताकि आपको पता हो कि वे किस बारे में चिंतित हैं, उनका यह सप्ताह कैसा रहा, उनके दिमाग में क्या चल रहा है।

अपने खुद के लिए समय निकालें:

आपने हर समय अपने बच्चों के हितों को सर्वोपरि रखा है लेकिन कभी भी खुद को पूरी तरह से उपेक्षित न करें। यदि आप खुद के लिए समय नहीं निकालते हैं तो आप कभी भी खुद के लिए आराम, या पुन: जोश से भरा हुआ महसूस नहीं कर पाओगे और बच्चों को वो समय और ध्यान नहीं दे पाओगे जिसके वो हकदार हैं।

हिंसक न बनें:

कोई बात नहीं आप कितने गुस्से में हैं, अपने बच्चे को मारने, चोट पहुँचाने से आपको बचना चाहिए। यह उन्हें शारीरिक और भावनात्मक रूप से दु:ख देगा और वो हर हालत में आप से बचना चाहेंगे। यदि आपके बच्चों को लगता है की आप हिंसक हो सकते हैं तो वो काम बंद करके आपके आस-पास नहीं रहना चाहेंगे। यदि आप उनसे सम्मान हासिल करना चाहते हैं तो आपको अपने इस हिंसक रूप को बच्चों और उनकी माँ के सामने आने से रोकना होगा।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here