वर्ष 2020 का यह कोरोना काल जीवन में बहुत से बदलाव लाने वाला है। यदि समय रहते ही बदलाव के तरीके अपना कर उन्हें अपनी आदत बना लिया जाए, तो बहुत हद तक कोरोना वायरस के वार से बचा जा सकता है। केवल कोरोना वायरस की वजह से ही नहीं, बल्कि वर्तमान आधुनिक युग को देखते हुए भी हमें अपनी आदतों में कुछ बदलाव करने की आवश्यकता है। तो आइए जानते हैं कुछ ऐसी ही अच्छी आदतों के बारे में जिन्हें अपनाकर कोरोना के भय को कुछ कम किया जा सकता है।

नमस्ते की आदत

हैलो या हाथ मिलाने का जमाना अब जा चुका है। अब कोरोना काल में लोग ‘नमस्ते’ करने लगे हैं। आप ‘दो गज की दूरी’ बनाकर किसी से भी नमस्ते कर सकते हैं। इससे न तो आप संक्रमित होंगे और न ही आपको किसी भी प्रकार का कोई खतरा होगा। मुमकिन है कि न्यू नॉर्मल में अब नमस्ते के साथ उचित दूरी भी अपनायी जाएगी।

खरीददारी

आम तौर पर भीड़-भाड़ वाले बाजारों में अब सोशल डिस्टेंसिंग का पालन जरूरी होगा। दुकानदार हो या फिर ग्राहक सभी को मास्क पहनना होगा। अपने हाथों को सैनेटाइज करना होगा। इसके अलावा अपनी बारी के इंतजार के लिए सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करती हुई कतार में भी लगना होगा।

कैशलेस को बढ़ावा

अगर हमारी जिंदगी यूं ही न्यू नॉर्मल की तरफ बढ़ी तो सच मानिए अधिकांश खरीदारी या भुगतान कैशलेस ही हुआ करेगा यानी डिजिटल भुगतान होगा और तब लोग बैंक जाने से और नकदी इस्तेमाल करने से बचेंगे, क्योंकि इससे बार-बार संक्रमित होने का खतरा बना रहेगा। लॉकडाउन के दौरान डिजिटल भुगतान का चलन ज्यादा बढ़ा है।

घर से आॅफिस का काम

पहले घर से आॅफिस का काम यानी वर्क फ्रॉम होम लोगों के लिए एक सुविधा की तरह होता था, लेकिन कोरोना काल में यह एक जरूरत बन गया है। घर से आॅफिस का काम करने का कल्चर अब न्यू नॉर्मल ही हो गया है। कंपनियां जितना मुमकिन हो सकेगा अपने कर्मचारियों को घर से ही काम करवाएंगी।

मेट्रो में सफर

मेट्रो का सफर भी पहले जैसा नहीं रहेगा। मसलन पहले जहां राजीव चौक मेट्रो स्टेशन पर खचाखच भीड़ दिखाई देती थी, वो शायद अब दिखाई न दे। अब मेट्रो स्टेशन में प्रवेश करने से पहले अपना तापमान जांच करवाना होगा, और मेट्रो में भी एक सीट खाली छोड़कर बैठना होगा। अरे हां, बिना मास्क के मेट्रो में दाखिल नहीं हो पाओगे।

शादियों में बदलाव

शादियों में जहां पहले लोगों की भीड़ जुटा करती थी और लोगों की जमकर मस्ती होती थी, शायद अब यह देखने को न मिले। इसके अलावा शादी में पंडित जी अब वर-वधु को कुछ नए वचन भी दिलाते नजर आएंगे। मंगलसूत्र से पहले शादियों में मास्क पहनने, सोशल डिस्टेंसिंग और सैनेटाइजेशन करते रहने को भी कहा जाएगा।

सच्ची शिक्षा हिंदी मैगज़ीन से जुडे अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें FacebookTwitter, और InstagramYouTube  पर फॉलो करें।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here