Ear phones should not become killer phones - Sachi Shiksha

मोबाइल और आईपॉड पर ईयर फोन से म्यूजिक सुनने का चलन जब से बढ़ा है, तब से दुर्घटनाएं भी बढ़ गई हैं चाहे वो दुर्घटना जान जाने की हों, एक्सीडेंट की हो या कान से कम सुनाई देने की।

ईयरफोन से म्यूजिक सुनने या बात करने से धीमी आवाज भी साफ और तेज सुनाई देती है क्योंकि ईयर फोन कान के बहुत पास होते हैं और साउंड लॉस बहुत कम होता है।

साउंड लॉस कम होने के कारण आस पास के शोर की आवाजें सुनाई नहीं देती, अगर सुनाई भी देती हैं तो इतनी कम कि हमारा ध्यान उस ओर आकर्षित नहीं होता। इतने में दुर्घटना घटित हो जाती है। कितने ही पढ़े लिखे युवक युवतियां म्यूजिक सुनते सुनते मौत की गिरफ्त में आ जाते हैं, फिर भी लोग सीखते नहीं।

ड्राइविंग के साथ न करें मोबाइल फोन का इस्तेमाल

  • ड्राइविंग करते हुए मोबाइल फोन पर बात करना सड़क हादसों को निमंत्रण देना है। जब भी ड्राइविंग कर रहे हों तो मोबाइल पर बात न करें। अगर कोई कॉल आती भी हो तो उसे काट दें या सड़क के एक किनारे पर स्कूटर, गाड़ी लगाकर बात करें।
  • शराब पीकर गाड़ी चलाना जितना खतरनाक है उतना ही मोबाइल पर बात करते हुए गाड़ी चलाना है, इसलिए गाड़ी चलाते हुए मोबाइल का प्रयोग न करें।
  • बहुत से लोग सोचते हैं कि हैंडस फ्री ईयर फोन के जरिए मोबाइल पर बात करना सुरक्षित है परन्तु विशेषज्ञों के अनुसार आपका ध्यान गाड़ी चलाने में लगभग 40 प्रतिशत बंट जाता है।
  • फोन से अधिक एस एम एस पढ़ना या करना खतरनाक है क्योंकि एस एम एस पढ़ते और करते समय आपको अपनी आंखें सड़क से हटाकर मोबाइल के स्क्रीन पर लगानी होती हैं। यह तो और भी खतरनाक स्थिति है।

ईयरफोन का प्रयोग इन स्थानों पर मत करें

  • ईयरफोन लगाकर गाने सुनना या बात करना मोबाइल पर गलत नहीं है पर कुछ स्थान ऐसे हैं जहां हम ईयरफोन का प्रयोग करते हैं तो हम खतरों से घिर सकते हैं, जैसेº-
  • सड़क पार करते समय या सड़क के किनारे चलते समय।
  • गाड़ी चलाते समय।
  • स्टेशन, बस स्टॉप, हवाई अड्डे पर।
  • गाड़ी पार्क करते समय या पार्किंग साइट पर।
  • मॉल या अन्य भीड़भाड़ वाले स्थानों पर।
  • कन्स्ट्रक्शन साइट्स पर।
  • पुल पर, पुल के नीचे या पुल खत्म होने के आसपास।
  • कोई भी जरूरी काम करते समय।
  • जब आप मोबाइल पर गाने सुन रहे हैं या दूसरे से बात कर रहे हैं तो वॉल्यूम हल्का रखें।
  • दो घंटे से अधिक ईयरफोन कान पर न लगा कर रखें, अगर लंबे समय तक लगाना भी हो तो थोड़े इन्टरवल पर कानों को आराम दें।
  • रात्रि को अगर आप ईयरफोन प्रयोग कर बात कर रहे हैं या म्यूजिक सुन रहे हैं तो उन्हें निकाल कर रख दें, फिर सोने जाएं नहीं तो कानों को काफी नुकसान पहुंच सकता है।
  • ऐसे ईयरफोन का चुनाव करें जो कानों के भीतर अधिक न जाएं बल्कि बाहरी हिस्से तक ही रहें।
  • बीच बीच में सिंगल ईयर फोन का भी प्रयोग कर सकते हैं।

ईयर फोन से सेहत पर पड़ने वाले प्रभाव से बचें:-

  • ईयर फोन और हेडफोन का अधिक इस्तेमाल आपकी सुनने की क्षमता पर प्रभाव डाल सकता है।
  • फुल वाल्यूम पर म्यूजिक न सुनें। इससे श्रवण शक्ति प्रभावित होती है। अगर म्यूजिक सुनना भी है तो 10 से 50 फीसदी वाल्यूम पर ही सुनें।
  • लगातार आई पॉड पर म्यूजिक न सुनें। अधिक से अधिक 60 मिनट तक सुनें और वाल्यूम भी 60 फीसदी से अधिक न रखें।
    -नीतू गुप्ता

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here