do not make yourself mockery before others Sachi Shiksha Hindi

कुछ लोग अपनी आदतों व हरकतों के कारण सदैव दूसरों के समक्ष मजाक के पात्र बनते रहते हैं। इससे वे काफी अपमानित भी होते हैं और उनके अहम् को चोट भी पहुंचती है।

हालांकि वे खुद को सुधारने का प्रयत्न भी करते हैं, मगर इसमें उन्हें अपेक्षित सफलता नहीं मिल पाती, जिससे हर समय अपमान के घूंट पीते रहना ही उनकी नियति बन जाती है। आइए जानें ऐसे क्या कारण हैं,

जो सदैव आपको हंसी का पात्र बनाते हैं

◘ कई लोगों की आदत होती है कि वे हर किसी को बिना मांगी सलाह देने लगते हैं, जिनसे लोग उन पर हंसंते तो हैं ही, साथ ही दो-चार बातें भी कहने से नहीं चूकते। अत: जब आपसे सलाह न मांगी जाए, तो कदापि अपनी सलाह न दें।

◘ दूसरों की गलतियां ढूंढते रहने से भी आप हंसी का पात्र बन सकते हैं, इसलिए दूसरों की गलतियां ढूंढने की बजाय खुद को संवारने के लिए प्रयासरत रहें।

◘ किसी से मुलाकात होने पर उसे बोलने का मौका दिए बिना खुद ही बोलते रहना अक्लमंदी नहीं है, अत: ऐसा करने से बचें।

◘ कार्यालय में जोर-जोर से हंसने व ऊल-जलूल बातें कर दूसरों को परेशान करने से सब आप पर हंसेंगे ही।

◘ हरदम अपने गुणों का बखान करते रहना भी इस दृष्टि से अच्छा नहीं।

◘ अपनी व्यक्तिगत बातें हर किसी को न बताएं। इससे आप हंसी का पात्र बनने के साथ-साथ हानि भी उठा सकते हैं।

◘ गलत किस्म के लोगों से मेलजोल बढ़ाने एवं उनकी बातों व आदतों का अन्धानुकरण करने से भी लोग आपका मजाक उड़ाएंगे।

◘ जब कोई दूसरा व्यक्ति आपसे बात करने का इच्छुक न हो तो उसे इसके लिए उकसाना मूर्खता है।

◘ हर समय दूसरों के समक्ष अपनी आर्थिक व घरेलू परेशानियों का रोना न रोयें।

◘ अपनी मानसिक कमजोरियों को दूर करने का प्रयास करें।

◘ किसी पार्टी आदि में आमंत्रित होने पर समय से बहुत पहले न जाएं।

◘ किसी से झगड़ा होने पर जोर-जोर से न बोलें।

◘ अपनी गलतियां दूसरों पर थोपने का प्रयत्न करना बेवकूफी है, अत: ऐसी आदत से बच कर रहें।

◘ अधिक बोलना भी कभी आपको मजाक का पात्र बना सकता है, क्योंकि आप अपनी आद त से मजबूर हैं। इसलिए आपको पता नहीं चलता कि आप क्या बोल रहे हैं, इसलिए कम बोलना ही श्रेयस्कर है।

◘ अपरिचित व्यक्तियों से अधिक बातचीत न करें व न ही हंसी-ठट्ठा करें।

◘ आवश्यकता से अधिक मेकअप कदापि न करें।

◘ किसी सहभोज में जाने पर जल्दी-जल्दी व अधिक खाने से बचें। – भाषणा बांसल

सच्ची शिक्षा हिंदी मैगज़ीन से जुडे अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें FacebookTwitter, LinkedIn और InstagramYouTube  पर फॉलो करें।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here