do not forget these things if you are buying a car for the first time - Sachi Shiksha

2021 में कई लोग अपनी पहली कार खरीदने के लिए काफी बेकरार हैं। हालांकि नई कार खरीदने के उत्साह में कुछ बातें ऐसी भी हैं जिन्हें नजरअंदाज न ही करें तो अच्छा है।

यहां हम बात कर रहे हैं कारों में मिलने वाले अहम फीचर्स की। वैसे तो आजकल हर कंपनी अपनी कारों को करीब-करीब अच्छे फीचर्स से लैस कर रही है, बावजूद इसके कुछ अहम फीचर कारों में नहीं मिलते और ग्राहक भी नई कार खरीदने के जोश में इन पर ध्यान नहीं देते। इनकी कमी और अहमियत का अहसास कुछ समय बाद होता है।

एबीएस और एयरबैग

सबसे पहले बात सेफ्टी की, कारों में एबीएस (एंटी लॉक ब्रेकिंग सिस्टम) एक अहम सेफ्टी फीचर है। यह तेज रफ्तार में इमरजेंसी ब्रेकिंग के दौरान कार को आपके कंट्रोल में रखता है और उसे फिसलने नहीं देता है। इससे हादसा होने की संभावना कम हो जाती हैं। दूसरा महत्वपूर्ण फीचर है एयरबैग। यह फीचर गंभीर हादसों की स्थिति में ड्राइवर और पैसेंजर को जानलेवा चोट से बचाता है। अभी भी कई कारों में यह फीचर स्टैंडर्ड तौर पर नहीं मिल रहा है। अगर आप अपनी और अपने परिवार को सुरक्षा को अहमियत देते हैं तो थोड़ा सा ज्यादा दाम देकर एक कार सुरक्षित कार खरीदकर घर ला सकते हैं।

रियर पार्किंग सेंसर/कैमरा और सेंसर्स

भीड़भाड़ या तंग जगह में कार पार्क करना किसी झंझट से कम नहीं है। ऐसे में रियर पार्किंग सेंसर या फिर कैमरा आपके लिए फायदे का सौदा साबित हो सकता है। यह फीचर आपको कार पार्क करते समय कार के पीछे की स्थिति से अवगत कराता रहता है। जब कोई चीज कार के नजदीक आ जाती है तो यह वार्निंग देकर आपको सतर्क कर देता है। इस प्रकार रियर पार्किंग सेंसर/कैमरा की मदद से आप कार को बिना किसी तनाव के आसानी से पार्किंग में खड़ा कर सकते हैं। इसके साथ ही अपने और दूसरे के वाहन को होने वाले नुकसान से बच सकते हैं।

सेंट्रल लॉकिंग सिस्टम

यह भी एक तरह का सेफ्टी फीचर ही है, जो आपकी मेहनत की कमाई से खरीदी गई कार को चोरी या छेड़छाड़ की आशंकाओं से बचाता है। सेंट्रल लॉकिंग सिस्टम कार चोरी होने की संभावना को काफी कम कर देता है। इसके अलावा ड्राइविंग के दौरान यह सिस्टम चारों दरवाजों को लॉक भी कर देता है। इन सुविधाओं के अलावा यह खचाखच भरी पार्किंग में खड़ी कार को आसानी से खोजने में भी काफी मददगार होता है।

एंटरटेंमेंट सिस्टम के साथ ब्लूटूथ

कई कार कंपनियों ने स्टीरियो सिस्टम के साथ ब्लूटूथ, आॅक्स और यूएसबी कनेक्टिविटी फंक्शन देना शुरू कर दिया है। सफर लंबा हो या छोटा, कार में अच्छे एंटरटेंमेंट सिस्टम का होना तो बनता है। आजकल कई कारों में सिर्फ म्यूजिक सिस्टम की जगह इंफोटेंमेंट सिस्टम आने लगा है। इस में कार के दूसरे फंक्शनों की जानकारी के अलावा फोन को कनेक्ट करने की सुविधा भी मिलती है। कई सिस्टम कॉलिंग, मैसेजिंग और नेविगेशन सपोर्ट के साथ आते हैं।

पावर विंडो

पावर विंडो पहले एडवांस फीचर में शुमार होता था, लेकिन अब ये कॉमन फीचर हो गया है। ज्यादातर कारों में आगे की विंडो के लिए यह फीचर स्टैंडर्ड तौर पर मिलने लगा है। सिर्फ आराम ही नहीं, बल्कि कार और पैसेंजर की सुरक्षा की दृष्टि से भी यह अहम फीचर है। कोशिश करें कि आपकी कार में आगे और पीछे दोनों तरफ पावर विंडो की सुविधा आपको मिल जाए। वैसे बाहर से भी आप पावर विंडो सिस्टम लगवा सकते हैं। हालांकि सस्ते के बजाए अच्छी क्वालिटी और सर्विस पर ध्यान देना ज्यादा बेहतर रहेगा।

एडजस्टेबल ओआरवीएम

कार में बाहर की तरफ लगे शीशों को आउटसाइड रियर व्यू मिरर (ओआरवीएम) या फिर विंग मिरर भी कहा जाता है। सुरक्षित और स्मूद ड्राइविंग में इनकी अहम भूमिका होती है। आज अधिकांश कारों में यह स्टैंडर्ड फीचर के तौर पर मौजूद है। लेकिन कई कंपनियां ऐसी भी है जो बेस वेरिएंट में सिर्फ ड्राइवर साइड में ही एडजस्टेबल विंग मिरर दे रही हैं। आप कोशिश करें की दोनों तरफ विंग मिरर लगी कार ही अपने लिए चुनें।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here