Detox yourself - Sachi Shiksha

डिटाक्स करना हैल्दी रहने का नया तरीका है। अधिकतर लोग खाने की मस्ती में भूल जाते हैं कि इन सबका हमारे शरीर, लिवर और डाइजेस्टिव सिस्टम पर क्या प्रभाव पड़ेगा। जो लोग स्वास्थ्य के प्रति जागरूक हैं, वे प्रारंभ से ही खाने-पीने का ध्यान रखते हैं। अगर कभी उनका नियम परिस्थिति वश टूट जाए तो अपने आप को डिटाक्स कर अपने स्वास्थ्य का ध्यान रखते हैं। डिटाक्स करने के लिए किसी सेंटर में जाने की आवश्यकता नहीं है। आप घर पर रहकर भी कर सकते हैं, इन तरीकों को अपना कर।

उपवास रखें

सेहत के लिए चिर परिचित पुराना तरीका है व्रत रखना। हफ्ते -दस दिन में एक दिन अगर आप व्रत रख सकते हैं तो बहुत अच्छा है। व्रत रखते हुए प्रयास करें उस दिन फल, सलाद, जूस, छाछ आदि ही लें। अगर उस दिन तला हुआ खाना एक वक्त खाते हैं तो लाभ नहीं मिलेगा। दिन-भर आप फल, सलाद, जूस, छाछ, नींबू, शहद. पानी पर हैं तो शाम 5-6 बजे चपाती किसी हरी सब्जी के साथ ले सकते हैं। सब्जी में तेल की मात्रा बहुत ही कम हो और मसाले न डालें हो तो भी ठीक रहेगा। यह डिटॉक्स का पुराना आजमाया नुस्खा है।,

जल्दी सोएं, जल्दी उठें

मेट्रो, रेट्रो सिटीज का फंडा है रात देर तक जागना और प्रात: लेट उठना। यह आदत भी सेहत को नुक्सान पहुंचाती है और डाइजेस्टिव सिस्टम के लिए भी ठीक नहीं। अगर हम रात्रि में खाना सोने से 3 घंटे पूर्व खा लें तो हमारा खाना पचना प्रारंभ हो जाता है और रात्रि में नींद भी अच्छी आती है, प्रात: जल्दी उठा जाता है और शरीर चुस्त रहता है। इसलिए शरीर की अच्छी सेहत के लिए जल्दी सोना और जल्दी उठना एक अच्छा नियम है।

हरी सब्जियों का सेवन

हरी सब्जियां सेहत के लिए अच्छी होती हैं, क्योंकि इनमें फाइबर,आयरन और विटामिंस भरपूर होते हैं जो हमारा वजन कम करने में हमारी मदद करते हैं। हरी सब्जियों में फाइटोकैमिकल्स होेते हैं जो हमारे शरीर के पाचन तंत्र और लिवर को सही रखने का काम करते हैं।

पानी की कमी न होने दें

अगर शरीर में एक बार भी किसी कारण से डिहाइडेÑशन की समस्या आ जाए तो शरीर से कितने ही पौष्टिक तत्व कम हो जाते हैं और त्वचा की चमक कम होती है। दिन भर में चाहे सर्दी हो या गर्मी, 8 से 10 गिलास पानी अवश्य पिएं। इसके अतिरिक्त खीरा, टमाटर, मूली, तरबूज, खरबूजा मौसम के अनुसार लेते रहें। इनमें पानी के अतिरिक्त कई विटामिंस होते हैं जो शरीर की धुलाई करने में मदद करते हैं। जब भी आप इनका सेवन अधिक करें तो उस दिन डिब्बाबंद भोज्य पदार्थ न लें। फ्लेवर्ड और मोनोसोडियम ग्लूटामेट शरीर की सफाई की प्रक्रि या में विघ्न डालते हैं। इनसे बचकर रहें।

जूस और हर्बल टी लें

कैफीन युक्त पेय शरीर को नुक्सान पहुंचाते हैं। इनके स्थान पर ताजे फलों व सब्जियों का रस बिना छना पिएं। इससे शरीर को विटामिंस के साथ रेशा भी मिलेगा। रेशा पेट की सफाई में लाभप्रद होता है और जूस से शरीर को कई विटामिंस मिलते हैं। चाय काफी के स्थान पर ग्रीन टी लें। ये शरीर को डिटाक्सिफाई करने का काम करते हैं। ग्रीन टी में नींबू के रस की कुछ बूंदें डालकर ले सकते हैं।

मालिश करवाएं

अगर आप शरीर शुद्धि वाली खुराक ले रहे हैं तो इसके साथ तेल की मालिश भी शरीर पर करवाएं। दुगुना लाभ मिलेगा। मालिश हेतु अपने पार्टनर की मदद लें। मालिश आप आलिव, नारियल, लवेंडर तेल से कर सकते हैं। सिर की, गर्दन, हाथ-पैर, कंधों की मालिश करें। इससे स्टेÑस भी दूर होगा और चुस्ती भी शरीर में बढ़ेगी। इसके बाद गुनगुने पानी से स्रान करना न भूलें।

व्यायाम करें

व्यायाम भी डिटॉक्स करने में मदद करता है। व्यायाम से पसीना आता है जिससे अंदरूनी शुद्धि होती है और शरीर में आक्सीजन की मात्रा भी अधिक अब्जार्ब होती है। व्यायाम में दौड़ना, जागिंग, एरोबिक्स, जिम जाना, योगासन, प्राणायाम कर सकते हैं। योगासन और प्राणायाम करने के बाद आप खुद को तरोताजा महसूस करेंगे।
-नीतू गुप्ता

सच्ची शिक्षा  हिंदी मैगज़ीन से जुडे अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें FacebookTwitter, LinkedIn और InstagramYouTube  पर फॉलो करें।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here