celebrating the holy maha paropkar month with charity and welfare activities - Sachi Shiksha

रामदेव को कुछ ही घंटों में मिला अपना पक्का घर

Ramdev got his pucca house in a few hours - Sachi Shikshaडेरा सच्चा सौदा के सेवादारों ने पावन सितंबर माह को महा परोपकार माह के रूप में मनाया। पूज्य गुरू संत डॉ. गुरमीत राम रहीम सिंह जी इन्सां की पवित्र प्रेरणाओं पर चलते हुए सेवादारों ने अपने-अपने ब्लॉकों में जरूरतमंदों को आशियाने बनाकर दिए जा रहे हैं। यहां बात हो रही है ब्लॉक पटियाला की, जहां के डेरा श्रद्धालुओं ने गत 6 सितंबर को टीन की छत वाले पुराने घर में रह रहे गांव रसूलपुर निवासी रामदेव को कुछ ही घंटों में पक्का मकान बनाकर सौंप दिया।

नए मकान को देखकर उसकी खुशी का कोई टिकाना न रहा। बता दें कि रामदेव का एक हाथ चारा काटने वाली मशीन में आने से कट गया था। यह बुजुर्ग चौकीदारी कर अपने परिवार का गुजारा चला रहा है। इस सेवा कार्य में मिस्त्री इकबाल सिंह, अवतार सिंह, गुरजंट सिंह, सदानंद और प्रकाश सिंह, 45 मैंबर कुलवंत राय, हरमिन्दर नोना और करणपाल सिंह व ब्लॉक की साध-संगत का भरपूर सहयोग रहा।

गरीबी से जूझ रहे दर्शन सिंह को मिला आशियाना

Darshan Singh struggling with poverty gets home - Sachi Shikshaऐसा ही दिलचस्प कार्य कर दिखाया है ब्लाक चुघ्घे कलां की संगत ने, जिन्होंने गत 10 सितम्बर को गांव बीड़ तालाब बस्ती नं. 6 में गरीबी से जूझ रहे एक परिवार को पक्का मकान बनाकर दिया। पूरा परिवार एक छप्पर पर प्लास्टिक डालकर उसमें रहने को मजबूर था।

साध-संगत ने जरूरतमंद दर्शन सिंह का मकान बनाने का निर्णय लिया और देखते ही देखते कुछ घंटों में ही डेरा श्रद्धालुओं ने मकान की छत लगाकर पूरा मकान तैयार कर दिया। इस परमार्थी कार्य के लिए दर्शन सिंह ने डेरा सच्चा सौदा के श्रद्धालुओं का हार्दिक धन्यवाद किया। इस सेवा कार्य में अंग्रेज सिंह इन्सां के पुत्र कुलवीर सिंह द्वारा भी मदद की गई, जो इन दिनों कनाडा में रह रहा है। इस अवसर पर जिला 25 मैंबर गुरतेज सिंह इन्सां, 15 मैंबर जसपाल सिंह इन्सां, गुरमेल सिंह इन्सां व समूह सेवादार मौजूद रहे।

बलबीर सिंह का सपना हुआ सच

Balbir Singh's dream came true - Sachi Shikshaगत 11 सितम्बर को पावन महापरोपकार माह के उपलक्ष्य में ब्लॉक गुरूहरसहाए के सेवादारों ने जरूरतमंद बलवीर सिंह निवासी जुआएसिंह वाला का घर बनाकर दिया। 45 मैंबर जगरूप सिंह और ब्लाक के भंगीदास रजवंत इन्सां ने बताया कि सेवादारों के साथ सलाह-मशविरा करने के उपरांत पीड़ित परिवार को पक्का मकान बनाकर देने का फैसला लिया गया। संगत ने कुछ ही घंटों में मकान तैयार कर उक्त परिवार को सौंप दिया। बलवीर सिंह ने इसके लिए आभार व्यक्त किया।

गुरजंट सिंह के परिवार को नसीब हुई सुरक्षित छत

Gurjunt Singh's family got a secure roof 01 - Sachi Shiksha Gurjunt Singh's family got a secure roof 02 - Sachi Shikshaब्लॉक फिरोजपुर की साध-संगत ने बीती 15 सितम्बर को गांव ढींडसा निवासी गुरजंट सिंह को पक्का मकान बनाकर दिया। इस सेवा कार्य में ब्लॉक फिरोजपुर शहर, छावनी और हकूमत सिंह वाला की साध-संगत ने सहयोग किया। प्रत्यक्षदर्शी बताते हैं कि मात्र दो दिनों में ही संगत ने घर तैयार कर गुरजंट सिंह के परिवार को सौंप दिया। गुरजंट सिंह का परिवार सपनों का घर साक्षात रूप में पाकर खुशी में फूले नहीं समा रहा था।

इस अवसर पर 45 मैंबर अच्छर सिंह, जोगिन्द्र सिंह 15 मैंबर ब्लॉक फिरोजपुर शहर, सन्दीप इन्सांं ब्लॉक भंगीदास, सुखवंत सिंह, सुखराज, महेन्द्रपाल, जसवंत सिंह, जसविन्दर सिंह, बलदेव सिंह, तरसेम सिंह, गुरनाम सिंह ब्लॉक भंगीदास, मेजर सिंह सहित साध -संगत उपस्थित थी।

साध-संगत ने बनाया गरीब का पक्का आशियाना

Sadh Sangat made pucca houses come true under aashiyana campaign - Sachi Shiksha
ब्लॉक मांणूके की साध-संगत द्वारा मानवता भलाई के कार्य करते हुए आशियाना मुहिम के अंतर्गत गांव बुर्ज कुलारां में एक अति जरूरतमंद परिवार को पक्का मकान बनाकर दिया गया। ब्लॉक भंगीदास बलवीर सिंह इन्सां व समिति सदस्यों ने बताया कि इस सेवा कार्य को सैंकड़ों की संख्या में ब्लाक की साध-संगत की ओर से सुबह पवित्र नारा लगा कर शुरू किया गया। समिति सदस्यों ने बताया कि इस पूरे घर को बनाने में तकरीबन एक लाख बीस हजार रुपए का खर्चा हुआ है जोकि न्यूजीलैंड के 15 मैंबर भरपूर सिंह इन्सां व समूह साध-संगत ने वहन किया।

मकान बनाने में ब्लाक भंगीदास बलवीर सिंह इन्सां, 15 मैंबर प्रीतम इन्सां, कपूर इन्सां, कुलवंत इन्सां, अमर इन्सां, भोला इन्सां, जसविन्दर इन्सां, मिस्त्री राजिन्दर इन्सां काउंके, सोनी इन्सां, स्वर्ण इन्सां, सुखी इन्सां, पाल इन्सां, जगदीप इन्सां, गुरदीप इन्सां, रणजीत इन्सां दौधर, जग्गा इन्सां, जिला सुजान बहन गुरदीप इन्सां सहित बड़ी संख्या में सेवादारों ने सेवा की।

सच्ची शिक्षा हिंदी मैगज़ीन से जुडे अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें FacebookTwitter, और InstagramYouTube  पर फॉलो करें।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here