Apple phone feature

बीएमडब्लू ने अपनी कारों और एसयूवी में वर्चुअल कार-की फंक्शन के लिए एपल के साथ साझेदारी की, जिसमें एपल ने अपना एपल कार-की फीचर पेश किया।

इस फीचर की मदद से बिना फिजिकल-की के भी कार को अनलॉक किया जा सकेगा। यह एनएफसी चिप के जरिए से काम करता है। बीएमडब्ल्यू इस फंक्शन को सबसे पहले अपनी फेसलिफ्ट-5 सीरीज सेडान में पेश होगी। बीएमडब्ल्यू इसे अपने वाहनों में बीएमडब्ल्यू डिजिटल-की के तौर पर बाजार में पेश करेगी।

वर्चुअल कार-की क्या होती है?

वर्चुअल-की एक डिजिटल-की है, जो यूजर के फोन में लगी एनएफसी चिप की मदद से वाहन को अनलॉक करती है। फिलहाल यह सुविधा वैश्विक रूप से कुछ ही वाहनों में उपलब्ध है, एपल डिवाइसों में इसे पहली बार पेश किया जा रहा है। बीएमडब्ल्यू पहले से ही कुछ मॉडलों में एंड्रॉयड बेस्ड डिवाइस के लिए इस टेक्नोलॉजी को आॅफर करती है, हालांकि यह पहली बार है जब सिस्टम एपल डिवाइस यूजर्स के लिए उपलब्ध कराया जा रहा है।

एपल कार-की क्या है और कैसे काम करती है?

एपल की वर्ल्डवाइड डेवलपर कॉन्फ्रेंस में कंपनी ने एपल कार-की को आईओएस-14 आईफोन आॅपरेटिंग सिस्टम के Apple phone feature नए फीचर के तौर पर पेश किया। जो आने वाले महीनों में रिलीज होगा। यह फीचर अपडेटेड आईओएस 13 में भी काम करेगा। सबसे पहले बीएमडब्लू मॉडल में पेश की जाने वाली एपल कार-की आईफोन के यूडब्लयूबी यू-1 चिप पर बनाया गया। एपल के अनुसार यह सभी कार निर्माताओं को वाहन के नजदीक होने का पता लगाने की अनुमति देगा, भले ही वह की वाहन मालिक के पर्स में रखी हो या बैग में।

अपने वाहन को अनलॉक करने के लिए यूजर को एनएफसी से लैस एपल डिवाइस जैसे आईफोन या एपल वॉच को वाहन के एनएफसी रीडर पैनल के बगल में पकड़ना होगा, जो आमतौर पर दरवाजे के हैंडल में लगे होता हैं। इसके बाद सिस्टम वाहन को अनलॉक करने के लिए फेस आईडी या टच आईडी के जरिए से वाहन अनलॉक करने की रिक्वेस्ट की पुष्टि करेगा। यह पूरी प्रोसेस ‘एक्सप्रेस मोड’ के माध्यम से तेजी से होती है।

आई मैसेज टू क्या है

वाहन मालिक इस वर्चुअल-की की कॉपी तेजी से बनाकर ‘आई मैसेज टू’ की मदद से अपने पांच फैमिली मेंबर्स के साथ शेयर कर सकते हैं, ताकि वे भी बिना फिजिकल-की के कार को अनलॉक कर सके। कार के अंदर जाने पर यूजर को अपना एपल डिवाइस कार के वायरलेस चार्जर पैनल पर रखने होगा, जिसके बाद कार का इग्निशन बटन दबाएं जाने पर कार स्टार्ट होगी। बीएमडब्ल्यू के अनुसार सिस्टम तब भी काम करेगा जब यूजर की आईफोन की बैटरी खत्म हो जाएगी। डिवाइस के मॉडल के आधार पर भी एपल कार-की कई घंटों तक काम करेगी। हालांकि, यदि यूजर डिवाइस को मैन्युअली स्विच आॅफ करना चाहते हैं तो फीचर केवल एक बार डिवाइस को वापस चालू करने पर काम करेगा।

भविष्य में उम्मीद की जा रही है कि यह तकनीक वैश्विक स्तर पर बिकने वाली अन्य बीएमडब्ल्यू कार और एसयूवी में भी देखने को मिलेगी। भारत में यह तकनीक आएगी या नहीं इसकी पुष्टि अभी तक नहीं की गई है, लेकिन उम्मीद की जा रही है कि भारत में यह तकनीक बीएमडब्ल्यू-5 सीरीज के साथ आ सकती है। जो अगले साल तक लॉन्च की जा सकती है। आईओएस-14 पर एपल कार प्ले में कस्टम वॉलपेपर एड करने की सुविधा, मैप्स में इलेक्ट्रिक कार चार्जिंग स्टेशन के बारे में जानकारी, पार्किंग डिटेल्स, फास्ट-फूड टेक आउट ऐप्स समेत कई सुविधाएं मिलेंगे।

सच्ची शिक्षा  हिंदी मैगज़ीन से जुडे अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें FacebookTwitter, LinkedIn और InstagramYouTube  पर फॉलो करें।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here